Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

बार बार करता है – नेहा श्रीवास्तव

प्रेम करता था अब इंकार करता है ,
बड़े अन्दाज से वह शख्स मुझे नजरअन्दाज करता है.
हर कोई जानता था उसको मेरे नाम से ,
अब मुझको ही पहचानने से इंकार करता है.
यही भूल वह बार बार करता है.
जिन राहों मे मिलने के वादे किये थे उसने,
उन्ही राहों मे अब वह किसी और का इन्तजार करता है .
यही भूल वह बार बार करता है.

Neha srivastavaनेहा श्रीवास्तव
उत्तर प्रदेश (बलिया)

203 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Neha Srivastava

Neha Srivastava

मैं नेहा श्रीवास्तव बलिया उत्तरप्रदेश की निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस की कवित्री हूँ। मैंने B.ED Science में शैक्षणिक योग्यता प्राप्त की है। मैंने साहित्य लाइव रंगमंच 2018 (राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता) में द्वितीय स्थान प्राप्त किया है।

3 thoughts on “बार बार करता है – नेहा श्रीवास्तव”

  1. 823851 837766Hello! Someone in my Facebook group shared this web site with us so I came to appear it more than. Im surely enjoying the data. Im book-marking and is going to be tweeting this to my followers! Outstanding weblog and superb style and style. 802377

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp