बेरोजगारी -शाम सुंदर सैनी

बेरोजगारी -शाम सुंदर सैनी

युवा पीढ़ी दे रही दुहाई, किसी काम ना आई पढ़ाई..
Certificates और prize जितने भी,
market  में competition उतने ही..
पढ़े-लिखे बेरोजगारों का, बन गया एक pool यहां..
Govt. Job के नाम पर बनता है सिर्फ fool यहां..
धर्म जाति के नाम पर, होता है सिर्फ भेद यहां ..
Written test के इंतजार में, बाल भी हो गए सफेद यहां..
Engineer भी बाबा बनकर, बांट रहे शिष्टाचार यहां ..
अपनों में ही बंट रही नौकरी, फैला भ्रष्टाचार यहां..
पैसे से मिल रही नौकरी, गरीब आदमी जाए कहां?
Vote लेकर नेता बदल गए, हाकम भी बदले यहां..
कोई हजार नहीं, कोई लाख नहीं, है करोड़ों ही बेरोजगार यहां..
क्या बढ़ती हुई आबादी का भी, है किसी को समाचार यहां..?
गैर मुल्कों में काम करने का, कब तक यह चलेगा दस्तूर..?
आधे से भी ज्यादा India, क्यों विदेशों में जाकर हुआ मशहूर ?
इस समस्या का समाधान ,सरकार कोई कर दे जरूर..
पढ़ा-लिखा युवा आज का, पकौड़े बेचने को है मजबूर।
Shyam Sunsar Sainiशाम सुंदर सैनी 
रूपनगर, पंजाब

View All Articles

I agree to Privacy Policy of Sahity Live & Request to add my profile on Sahity Live.

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account