Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

** बेटी **-अखिलेश-श्रीवास्तव

पिता की आत्मा माँ का ,अभिमान है बेटी !
पूर्व जन्मों के पुण्य का ,परिणाम है बेटी !!
मेरे जीवन का वो , बहुत सुनहरा दिन था !
जिस दिन मेरे घर ,आई थी प्यारी बेटी !!
पहली बार जब उसे, गोदी में उठाया मेंने !
अजीब -प्यार और , वात्सल्य पाया मैनें !!

उसका बचपना जब भी , हमें याद आता है !
होंठों पर खुशी ,मन प्रफुल्लित हो जाता है !!
याद आती है उसकी ,वो तोतली बोली !
जैसे कि ईश्वर ने , प्रक्रति में मिश्री घोली !!

बचपन में जब उसे , नींद आती थी !
दौडकर मेरे पास, आ जाती थी !!
लोरी सुनते -सुनते ,गोदी में लेट जाती थी !
आँखें मेरी बंद कराती , पर खुद सो जाती थी !!

ईश्वर की इस कृति को, समय के साथ चलना है !
आगे बड़ा होकर ,अपना जीवन भी संजोना है !!
हमारी शिक्षा -संस्कार,प्यार से पूर्ण है बेटी !
मेरे परिवार की अमूल्य , धरोहर है बेटी !!
धन पराया नहीं ,घर की लक्ष्मी है बेटी !
दो -दो कुलों की शान , होती है बेटी !!

‘न ‘ होंगी बेटी , तो बहू कहाँ से लाओगे !
बिना बहू के कुल, को कैसे बढाओगे !!
माँ का गहना ,पिता का अभिमान है बेटी !
हमसे दूर रहकर भी ,हमारे पास है बेटी !!
समाज में खुशी, और सुखद जीवन पाना है !
बेटी को प्यार और दुलार से अपनाना है !!

                  रचयिता  :---- अखिलेश  श्रीवास्तव 
392 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
akhilesh-shrivastava

akhilesh-shrivastava

में जबलपुर मध्य प्रदेश में एडवोकेट हूँ में वकालत का कार्य कर रहा हूँ , इसके साथ ही मेरी पत्रकारिता में भी रूचि है, मैं पत्रकारिता में स्नातक हूँ पत्रकारिता के साथ -साथ मेरी रूचि लेख एवम कविता लिखने में भी है |

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp