Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

भाग दौड भरी जिन्दगी – रवि कान्त अगृवाल

सुबह जल्दी उठकर देर रात सोना
दिन भर कुछ पाना कुछ खोना
कभी रब की इबादत
कभी खुदा की बन्दगी

यहीं हैं भाग दौड भरी जिन्दगी

पुरे दिन काम मे रहना
थककर ना किसी से कुछ कहना
अपनों से की बेवफाई
तो परायों से कर ली दिल्लगी

यहीं है भाग दौड भरी जिन्दगी

रवि कान्त अगृवाल

78 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
DishaLive Group

DishaLive Group

Hi, This account has articles of multiple authors. These all written by Sahity Live Authors, but their profile is not created yet. If you want to create your profile then send email to [email protected]

2 thoughts on “भाग दौड भरी जिन्दगी – रवि कान्त अगृवाल”

  1. 13905 847570Specific paid google internet pages offer complete databases relating whilst private essentials of persons whilst range beginning telephone number, civil drive public records, as well as criminal arrest back-ground documents. 79603

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp