बस वही यादें – सचिन ओम गुप्ता

बस वही यादें – सचिन ओम गुप्ता

यादें एक सरल शब्द है,
केवल जहन की बातें या तकलीफें हैं यादें,
कुछ बातें, कुछ मुलाकातें और फिर यादें |
मिलना और मिल के बिछड़ना ,
तस्वीरें देख के आँसू का फिसलना
और रह जानी हैं तो बस क्या, यादें
बस वही यादें…!!!
बस वही यादें …!!!

Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूट धाम

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account