Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

चाॅद मेला – चेतन वर्मा

चाॅद मेला नाराज़ है …
पल-पल हर पल लडता है …
नासमझें वो नदान है …
दिल से प्यार जो करता है …

कैसे उसको समजझाऊ ….
पागल रूह पर मरता है …
खुश्बू कैसे पहचानु …
जान-ए-जिगर में बसता है …

कैसें उसको बतलाऊ …
हालत से पगला अनजान है ….
कब तक उसको तडपाऊ…
फितरत में बसती जान है …

कैसें उसको भूलाऊ…
दिल का रिस्ता सच्चा है …
नाजाने वो दिल-का-अलाम …
दीवाना पागल-पागल फिरता है …
चाॅद मेला नाराज़ है …

chetan vermaचेतन वर्मा (बुन्दी)
राजस्थान

537 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Chetan Verma

Chetan Verma

मैं चेतन वर्मा बूंदी राजस्थान का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

10 thoughts on “चाॅद मेला – चेतन वर्मा”

  1. 633626 982108Superb post but I was wanting to know in the event you could write a litte a lot more on this topic? Id be quite thankful in case you could elaborate slightly bit a lot more. Thanks! 647912

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp