चिन्ता-सरिता सिंह

चिन्ता-सरिता सिंह

चिन्ता करने से शरीर की सूखी हड्डी बन गई
चिन्ता करने से शरीर की सूखी हड्डी बन गई
जैसे रखी रखी पुस्तक रद्दी बन गई।।
पढते पढते जीके मैथ सबजेक्ट समस्या बड्डी बन गई
चिन्ता करते करते शरीर की हडडी बन गई।।
Selection चाहिए यहा आइये यहा आइये
नौकरी चाहिए हमसे ले जाइये
बाजार र्मे couchings की मण्डी लग गई।।
चिंता करते करते शरीर की सूखी हड्डी बन गई।।
इसकी भर्ती उसकी भती फॉर्म करें अप्लाई
आवेदन शुल्क जमा करें और रूपयो की सप्लाई।।
फॉर्म अप्लाई करते करते सरकारी नोटो की गड्डी बन गई।।
चित्ता करते करते शरीर की हड्डी बन गई।।

    सरिता सिंह

    उत्तर प्रदेश

3+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account