चितचोर – सोनी कुमारी

चितचोर – सोनी कुमारी

बाबरे रसिया मन चितचोर,
ओ रे पिया बहियाँ न मरोड़,
हम तो तेरे ही हैं सजन,
फिर भी ये कैसी अग्न,
तेरे बिन न जियूं,
तेरे बिन न मरु साँवरें,
साँझ ढले रातें महकनें लगी
लगी कैसी लगन
तुझसे ओ सजन
लब पे तेरा ही नाम
सूबह हो या शाम,
तेरे बिन न जियूं
तेरे बिन न मरुं बाँवरे
ओ रे पिया मरी बहियाँ न मरोड़
बाँवरे रसिया मन चितचोर!!

Sony Kumariसोनी कुमारी
पूर्णिया (बिहार)

22+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account