Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

” दादी माँ “-सचिन ओम गुप्ता

sachin om guptaआओ तुम्हें मैं एक बात बताऊं,
एकदम सच्ची, पूरी पक्की
दादी माँ होती है ,
घर की नींव एकदम पक्की |

कमर झुका कर थी वो चलती,
धीमी सी थी उसकी चाल
दुबला-पतला शरीर था उसका ,
थे सर पे चमकते सफ़ेद बाल |

जब भी मैं परदेश से घर को आता,
उसके पास जाकर था मैं बैठता
कुछ उनसे अपनी मै कहता,
कुछ उनकी था मैं सुनता |

अपने मन में यह सोच रहा,
खूब बड़ा बन जाऊ मैं
दादी की सेवा करके ,
जीवन को सफल बनाऊ मैं |

माना की उसकी उम्र थी पकी ,
लेकिन मेरी दादी नहीं थी थकी |

जीवन में तुम हमेशा अपनी दादी की सेवा करना,
फिर अपनी जेबें तुम उनकी दुआओं से भरना |

कमर झुका कर थी वो चलती,
धीमी सी थी उसकी चाल
दुबला-पतला शरीर था उसका ,
थे सर पे चमकते सफ़ेद बाल |

धन्यवाद…

sachin om guptaसचिन ओम गुप्ता, चित्रकूट धाम
उत्तर प्रदेश

71 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sachin Om Gupta

Sachin Om Gupta

मैं सचिन ओम गुप्ता चित्रकूट धाम उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

2 thoughts on “” दादी माँ “-सचिन ओम गुप्ता”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp