Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

दृष्टिदोष Poem BY प्रोo लक्षमीनारायण मंडल

दृष्टिदोष

समझा नहीं किसी ने, समझेगा उस दिन
जब मैं दुनियाँ छोर चला जाऊँगा !
खोजेगी दुनियाँ, पर मैं मिलूँगा नहीं !!

देखते हैं लोग अपनी दृष्टि से,
जितने लोग उतनी दृष्टि से !
भला कैसे दिखेगी दुनियाँ एक जैसी ?

जो है वो दिखता नहीं,
दिखता वह, जो है नहीं!
देखेगी दुनियाँ, जब रहूँगा नहीं,
है पर दिखता नही, दृष्टि में है दोष, दिखेगा नहीं !!

है एक, हम देखते अनेक,
भ्रम है, या फिर दृष्टिदोष ?
मन और दृष्टि साफ करो, दिखेगा केवल एक !!

प्रोo लक्षमीनारायण मंडल
कुर्सेला, कटिहार

103 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

Leave a Reply

जागो और अपने आप को पहचानो-प्रिंस स्प्तिवारी

मैंने सुना है कि एक आदमी ने एक बहुत सुंदर बगीचा लगाया। लेकिन एक अड़चन शुरू हो गई। कोई रात में आकर बगीचे के वृक्ष

Read More »

Join Us on WhatsApp