Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

दस्तक

   दस्तक

कुछ खास नहीं बदले हम ,
आपके जाने के बाद भी
बस फर्क इतना सा है ,
कभी – कभी तेरी याद
दस्तक दे जाती है
जालिम बिलकुल
तेरी तरहा |

  •  मनमोहन गुर्जर
114 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
DishaLive Group

DishaLive Group

Hi, This account has articles of multiple authors. These all written by Sahity Live Authors, but their profile is not created yet. If you want to create your profile then send email to [email protected]

3 thoughts on “दस्तक”

  1. 609302 718764You produced some decent points there. I looked on-line to the concern and discovered most individuals will go along with along with your internet web site. 49215

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp