धरती माँ-पुष्कर कुमार

धरती माँ-पुष्कर कुमार

आओ भाई हम सब मिलकर
बचाये इस धरती माँ को और
बनाये स्वच्छ, सुंदर,मनमोहक,
और प्रकृति से पूर्ण हरा-भरा ।

संकट मे पड़ी धरती माँ
देखो जहरीला बन रहा ,
इनकी नीर ,भयावह प्रदुषण
हुआ भाई इनकी आँचल ।

खेलते हम सब मिलकर इनकी
आँचल में ,कैसे बच पायेंगे भाई
अगर अब न सुधरे तो बच नही
पयेगी हमारी अगली पिढ़ी ।

उपाय है आसान बचने की
पड़ अपनाता कोई नही
छाव सभी भाईयो के चाहिए
पर कोई पोधा लगाता नही ।

अब अगर बात नही मानी तो
नही माँफ करेगी धरती माता
मचेगी एसी तबाही ,नष्ट होगा
सारा संसार और सारा जीवन ।

 

Pushkar Kumar 

  पुष्कर कुमार
 दियारी, अररिया

4+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



×
नमस्कार जी!
बताइए हम आपकी क्या मदद कर सकते हैं...