दिल तो बच्चा है…🙃(चेतन वर्मा)

दिल तो बच्चा है…🙃(चेतन वर्मा)

दिल का क्या कसूर
जब आप इतने अच्छे हो
नजर का क्या कसूर
जब आप लगते बच्चे हो ..
बच्चे हो तो बच्चों के ही काम कीजिए
बड़ा बनकर आसमान में छेद मत कीजिए
धड़कन को धक धक कर के साज तो बनाएंगे
फिर भी ना माने तो
दिल तो बच्चा है ….🙃
कान पकड़कर फिर से समझाइए …
भरी महफिल में रंग तो जमाइए
कुछ कर ना सको तो डीट ही बन जाइए
भटके दिल को पटरी पर तो लाइए
फिर भी ना समझे तो
दिल तो बच्चा है….🙃
उल्टा लटकाकर फिर से समझाइए …

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Chetan Vermaचेतन वर्मा
(बूंदी) राजस्थान

दिल तो बच्चा है…🙃(चेतन वर्मा)
Rate this post

साहित्य लाइव रंगमंच 2018 :: राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता • पहला पुरस्कार: 5100 रुपए राशि • दूसरा पुरस्कार: 2100 रुपए राशि • तीसरा पुरस्कार: 1100 रुपए राशि & अगले सात प्रतिभागियों को 501/- रुपये प्रति व्यक्ति

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account