Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

“इंजीनियरिंग” में दाखिला – सचिन ओम गुप्ता

आई.आई.टी. व ए.आई.ई.ई.ई. की परीक्षा देकर जब हम घर आए,
अब बारी आई स्टेट परीक्षा की और हम खुद को लोकल यूनिवर्सिटी के हवाले कर आए|

सारे चेहरे थे नए और हम सब थे अनजान,
लेकिन इस भीड़ में तो हमें बनानी थी अपनी पहचान|

सब दिखते थे मासूम और सबको था रैगिंग का डर,
क्या पता था कौन सा सीनियर आ जाए किधर|

दिन गुजरतें गए और फ्रेशर पार्टी आ ही गई ,
पता नहीं चला कब हमारे बाजू में एक हसीना आकर बैठ गई|

फिर बनाए हमने कई सारे दोस्त और शुरू की बाते,
एक लेक्चर अटेंड कर, दिन भर कैन्टीन में गप्पे लड़ाते |

हम सब हमेशा क्लास में घुसते थे लेट,
और टीचर हमें कहता “गेट आउट फ्रॉम द गेट”,

वो क्लास की लास्ट बेंच में बैठकर हमने टीचर की हसी उड़ायी,
और लेक्चर के बीच में हमें उबासी मारकर गहरी नींद आयी|

वो सेमेस्टर आने पर नींद का उड़ जाना,
और लास्ट टाइम पर अपनी किस्मत को एस.पी. पर आजमाना|
(मैं आर.जी.पी.वी का विद्यार्थी था तो मैंने शिवानी पब्लिकेशन को आजमाया,
और आप लोग यहाँ अपनी-अपनी यूनिवर्सिटी के पब्लिकेशन आजमा लो )

अब आयी रिजल्ट की बारी,जो उड़ा देता है होश,
जो पास हो गए वो होतें है खुश,जो रह जातें हैं वो हो जातें है बेहोश|

हम भी अब बन गए हैँ सीनियर, आ गया है थोड़ा गुरुर,
मेरे प्यारे जूनियर्स हो जाओ तैयार क्योंकि हम रैगिंग लेंगें जरूर|

Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूटधाम

 (उत्तर प्रदेश)

84 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sachin Om Gupta

Sachin Om Gupta

मैं सचिन ओम गुप्ता चित्रकूट धाम उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp