Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

हिम्मत तो है (गजल) by राहुल रेड

जिंदगी की जंग जीत जाने की हिम्मत तो है
रोजगार ना सही पर कमाने की हिम्मत तो है
वक्त बेवक्त मिले फिर भी कोई गम नही
सूखी रोटी ही सही खाने की हिम्मत तो है
महलों में रहने की “राहुल” तेरी औकात नही पर
तिनका-तिनका जोड़, घर बनाने की हिम्मत तो है
डूब गयी पतवारें लेकिन हौसला अभी बाकि है
कश्ती को साहिल तक पहुँचाने की हिम्मत तो है
काट डालो जुबान चाहें शायर की आज तुम
हकीकत को कलम से बताने की हिम्मत तो है
सत्ता के गलियारों में भ्रष्ट सरकारों के खिलाफ
अकेली आवाज ही सही उठाने की हिम्मत तो है।
Rahul Red
नाम- राहुल रेड
पता- फर्रुखाबाद यूपी
मोबाईल नम्बर: 80043 52296
139 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Rahul Red

Rahul Red

मैं राहुल रेड फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ। मैं वीर रस का कवि हूँ।

5 thoughts on “हिम्मत तो है (गजल) by राहुल रेड”

  1. Pingback: सूखा गुलाब (एक प्रेम कहानी) लेखक: राहुल रेड | Sahity Live :: Sahity.com

  2. 565966 749917jobs for high school students – Search for Jobs on our site, we supply several great links towards the best and biggest Portals to obtaining a Job as a high school student! 945749

  3. 220527 428225A persons Are normally Weight loss is definitely a practical and flexible an eating program method manufactured for those that suffer that want to weight loss and therefore ultimately conserve a a lot a lot more culture. weight loss 75107

  4. 191753 788350Hi there! I basically want to give a huge thumbs up for the great data you can have right here on this post. I will likely be coming again to your weblog for much more soon. 752274

Leave a Reply

जागो और अपने आप को पहचानो-प्रिंस स्प्तिवारी

मैंने सुना है कि एक आदमी ने एक बहुत सुंदर बगीचा लगाया। लेकिन एक अड़चन शुरू हो गई। कोई रात में आकर बगीचे के वृक्ष

Read More »

Join Us on WhatsApp