Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

हिन्दुस्तान -Lonely-Writer

ना जानो मेरा मज़हब
हम तो बस इंसान है ,
होंगे तुम हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई
हमारी पहचान हिंदुस्तान है ,
है सर पर तेरे सफेद गोल टोपी
क्या तू मुसलमान है ?
तेरे आसपास भी तो मंदिर है
तेरे अन्दर भी एक हिंदुस्तान है ,
टोपी उतार फेंक , पहनी तूने पगडी
गले में लगाई टाई , रखी हाथो में माला
अब बता तेरा कौन सा धर्म है ?
तू हिन्द का उड़ता पंछी है
हमारी पहचान हिंदुस्तान है ,,,

    - Lonely Writer
134 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

1 thought on “हिन्दुस्तान -Lonely-Writer”

  1. अति सुन्दर भावाभिव्यक्ति जानकारी ,धन्यवाद, * अनिल कुमार सागर, वरिष्ठ लेखक – स्वतंत्र पत्रकार,पूर्व उप सम्पादक :”उजाले की ओर”,”कीमया-ऐ-जीवन “,”ज्ञान रंजन ट्रेजर”,”चन्दौसी की गूँज “,”मोटर यान ज्ञान”,”तुमुल तूफानी “,”रंगीला टाइम्स”, आदि राष्ट्रीय समाचार पत्र, सम्पर्कः- 03,आनन्द कॉलोनी,चन्दौसी-244412,उ.प्र., YouTube:Van Ausdhi anilkumarsagar,Writer-Journalist,YouTube:chandausinow,Anilkumarsagar Witer Journalist ,Twitter:anilkumarsagar11, Twitter:vision5design, Instagram:Kumar sagaranil, 09719674350whatsapp

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp