Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

“हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें” – सचिन ओम गुप्ता

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जो पहली नजर में आँखों में बसी न हो..

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जो देखकर इश्क़ को शरमायी न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जो ख़्वाबों में आई न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जो इश्क़ की ज़ुल्फो से खेला न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें बनी बात बिगड़ी न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जो देख कर इश्क़ को इतराया न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसकी साँसो की खुशबू मन में बसी न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसने मिलने की इश्क़ से जिद की न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें रूठना मनाना न होता…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें
जिसमे थोड़ी टकरार होती न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें मंजूरी का एहसास न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें दूरी का एहसास न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें रोना न पड़ता हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें संभालें न जी संभलता हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें उसका हाल किसी से पूछा न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें याद न जाए भुलाने पर…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसमें अकेले दिन बीत न जाए सालों तक…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जो रोया न हो रातों को…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसने संभाले न हो अपने जज्बातों को…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसने लिखा न हो कुछ उस इश्क़ के बारे में…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसने इश्क़ जरा भी किया न हो…

हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें,
जिसने इश्क़ जरा भी किया न हो…

Sachin Om Guptaसचिन ओम गुप्ता,
चित्रकूट धाम (उत्तर प्रदेश)

74 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Sachin Om Gupta

Sachin Om Gupta

मैं सचिन ओम गुप्ता चित्रकूट धाम उत्तर प्रदेश का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

3 thoughts on ““हम उस इश्क़ को इश्क़ क्या कहें” – सचिन ओम गुप्ता”

  1. 17356 426064Beneficial info and outstanding design you got here! I want to thank you for sharing your tips and putting the time into the stuff you publish! Wonderful work! 333390

Leave a Reply

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र-वीरेंद्र देवांगना

संविधान निर्माण में अग्रणी भूमिका निभानेवाले छग के माटीपुत्र:: ब्रिटिश सरकार के आधिपत्य से स्वतंत्र होने के बाद संप्रभु और लोकतांत्रिक गणराज्य भारत के लिए

Read More »

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य-वीरेंद्र देवांगना

ताज होटल में जयदेव बघेल की कलाकृति अक्षुण्य:: 26 नवंबर 2008 को मुंबई के ताज होटल में हुए आतंकी हमले में वहां की चीजें सभी

Read More »

Join Us on WhatsApp