Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

इश्क़-माला-चौधरी

मरीज ए इश्क हूं मै
💞
दुआ कर या दवा कर
💞
आबाद कर दे छू कर मुझे
💞
या दूर करके तबाह कर
💞
तेरे दर पे पड़े हैं इश्क़ की सौगात लेकर
💞
कर ले कबूल , हमसे जरा सी वफ़ा कर
💞
तेरे इनकार से मर ना जाऊ कहीं मै
💞
ना जुल्म मुझपे इतना
ओ बेवफ़ा कर
💞

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp