Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

जिंदगी तेरे रंग हजार-महेश्वर उनियाल उत्तराखंडी

जिंदगी तेरे रंग हजार
कभी पतझड़, तो कभी बहार
कभी प्यार, कभी इंतजार
कभी खुशियों की बरसात
कभी गमों की अंधेरी रात
कभी बचपन में
घुटनों के बल
चलने की यादें
कभी बड़े होने की
आपस में बातें
वो स्कूल का बस्ता
और किताबें
बच्चों से झगड़ना
और स्कूल से बिछड़ना
याद है वही
स्कूल के सामने का
छोटा सा बाजार, …वाह
जिंदगी तेरे रंग हजार ll

मम्मी की डांटे
पापा के चांटे
खा खाकर बड़ा होना
और धीरे-धीरे
खुद के पैरों पे
खड़ा होना
फिर वो दफ़्तर की चाय
और घर का खाना
जिम्मेदारियों का
सर पे आना
शादी के बंधन में
बंध जाना
और जवानी का
हाथों से फिसल जाना
फिर बनना
एक नया परिवार, ..वाह…
जिंदगी तेरे रंग हजार ll

बुढ़ापे की दस्तक
माथे की झुर्रियां
अब खुद के ही बच्चों से
बढ़ती दूरियां
और शुरू होती
नई मजबूरियां
अब तो बस
हालत का मारा
जिंदगी से हारा
कुछ दिन तक
बस पेंशन का सहारा
और आखिर में
अल्लाह को प्यारा
बस यहीं पर होता है
अंतिम संस्कार ..वाह….
जिंदगी तेरे रंग हजार ll

रचनाकार:- महेश्वर उनियाल
“उत्तराखंडी”

117 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype

2 thoughts on “जिंदगी तेरे रंग हजार-महेश्वर उनियाल उत्तराखंडी”

  1. चिन्ता नेताम "

    बहुत सुंदर…कुछ ऐसे ही आपके शब्दों के हो रंग हजार

Leave a Reply

पर्यावरण-पुनः प्रयास करें

पर्यावरण पर्यावरण हम सबको दो आवरण हम सब संकट में हैं हम सबकी जान बचाओ अच्छी दो वातावरण पर्यावरण पर्यावरण हे मानव हे मानव पर्यावरण

Read More »

Join Us on WhatsApp