Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

कविता – राजपुत कमलेश “कमल”

भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!
कल्पनाओ के कल्प तरू से,
सुनहले अक्शर लाइ कविता!!
हृदय सिन्धु के मन मन्थन से,
अम्रुत रस ले आई कविता!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!
नभचर के कलरव में जाकर,
छन्द-छन्द बन आई कविता!
शिवालयो के घन्टनाद में,
टन्न-टन्न गोहराइ कविता!!
कर्म योगी के कर्म सफर में,
कर्म राह दिखलाइ कविता!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!
वसुधा के हरेक हरित त्रुडो में,
शर्मसार इठलाइ कविता!
सरसो की पियरी ओढे यु,
धानी चुनरिया लाइ कविता!!
कोकिला के मधुर स्वरो में,
कुह-कुह कर गायी कविता!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!
ममता का दुध पिलाने को,
जननी रुप धर आयी कविता!
गजल्कार की गजलो में फिर,
गजल रुप बन आयी कविता!!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!
पपिहे की प्यास बुझाने को,
वर्शा की बदली लायी कविता!
चन्दन के तरुवर से सार,
वन-उपवन महेकाइ कविता!!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!
रशिको के पावन हृदय कुन्ड से,
गङाजल भर लायी कविता!!
कलम ने मेरा साथ दिया तो,
पोथी में उभराइ कविता!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!
कमल-नयन के नाभि बिन्दु से,
“कमल” सङ चली आयी कविता!
हो गई खतम सब मशी कलम की,
पुर्न नही हो पायी कविता!!
भोर भई जब आन्खे खोली,
मन्द-मन्द मुस्काइ कविता!!

Kamlesh Rajput(Kamal)राजपुत कमलेश “कमल”
अहमदाबाद (गुजरात)

74 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ravi Kumar

Ravi Kumar

मैं रवि कुमार गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ | मैं श्रंगार रस का कवि हूँ | मैं साहित्य लाइव में संपादक के रूप में कार्य कर रहा हूँ |

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp