मन किया एक नई कविता लिखूं-शोभा सृष्टि

मन किया एक नई कविता लिखूं-शोभा सृष्टि

मन किया एक नई कविता लिखूँ।
जिंदगी को रंग बिरंगे धागों से बुनूँ।
मन किया एक नई कविता लिखूं।
खुशी भरे रंगों से जिंदगी की तस्वीर बनाऊँ।

मन किया एक नई कविता लिखूं।
जिंदगी को नई सरगम सी सजाऊँ।
मन किया एक नई कविता लिखूं।
जिन्दगी को फूलों भरा बगीचा बनाऊँ।

मन किया एक नई कविता लिखूं।
जिंदगी को प्रकृति का सा स्वरूप बनाऊँ।
मन किया रोज एक नयी कविता लिखूं।
जिंदगी को जीने की सुन्दर वजह दूँ।

 

    शोभा सृष्टि
 करौली, राजस्थान

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account