Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

मसले उलझ गयें मेरे बेबाक अन्दाज से – नेहा श्रीवास्तव

मैने रिश्तों का भ्रम पाल रखा था,

अपने चारों तरफ उलझनो का जाल रखा था।

मसले उलझ गये मेरी बेबाक अन्दाज से,

इस हालात मे भी खुद को संभाल रखा था।

दुनिया के खुलूसों का खौफ था मुझे,

अपने चारो तरफ दीवार लगा रखा था।

हर किसी से मिलकर भी हम अजनबी रहे,

खुद से खुद का दिल बहला रखा था।

हम भी गुनहगार अपने घर मे हो गये,

किसी अपने ने इल्जाम लगा रखा था।

तुम्हारे यादों के अब राख ही बचा पायें हैं,

तुम्हारे खतों को किसी ने जला रखा था।

Neha srivastavनेहा श्रीवास्तव

उत्तर प्रदेश(बलिया)

9 thoughts on “मसले उलझ गयें मेरे बेबाक अन्दाज से – नेहा श्रीवास्तव”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp