Notification

मत पैदा करो ऐसे हालात-संस्पेरपाल

मत पैदा करो ऐसे हालात
कि लोग बेरोजगार हो जाएँ

महँगाई बढ़ने लगे और
लाचार हो जाये

लूट-खसोट के व्यापार का ये खेल अच्छा नहीं
कही ऐसा न हो इस खेल मे तुम्हारी ही हार हो जाये

वो कुर्सियां कभी सलामत नही रहती
जिसपे बैठकर अहंकार हो जाये

न जाने समय की लाठी कब वार कर दे
और पूरा जीवन ही बेकार हो जाये

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp