मेरा पहला प्यार – रवि कुमार

मेरा पहला प्यार – रवि कुमार

लो कह दिया हमने की तुम ही हो मेरा प्यार,
जब मिली तुम मुझको पहली बार,
करना चाहते थे हम तुमसे ये इकरार,
कि तुम ही हो मेरा प्यार ।
तुम ही हो मेरा प्यार ।।

याद है हमे साथ गुजारे वो चार दिन,
ना हम बोल पाये,
ना तुम कुछ कह पाये शर्माए बिन,
कहना चाहते थे हम तुमसे बहुत कुछ,
पर कुछ हो गयी हममे ऐसी तकरार ,
कि कह नही पाये कि हमे था तुमसे कितना प्यार।।

ना हो तुम Facebook पर,
ना ही Instagram पर,
What’s app भी तो तुम नही चलाती,
जो तुम तक मेरी ये बात पहुच पाती,
कैसे पहुचाये तुम्तक अब अपने ये जज्बात,
खत लिखे तो पड़ सकती है मुझको मार,
लो कह दिया फिर भी की तुम ही हो मेरा प्यार।।
तुम ही हो मेरा प्यार।।

कहने को य मॉडर्न जमाना है,
लेकिन फिर भी समाज का जो ये ताना है,
करके मुझे उसको पार,
पहुचानी है तुम्तक अपनी ये बात,
कि तुम ही हो मेरा प्यार ।।
तुम ही हो मेरा प्यार।।

लिख दी हम्ने कुछ लव्जो मे दिल की ये बात,
क्या पता कैसे पहुंच जाये तुम्त्क ये आवाज,
बस कर लो अब तुम मेरा इतना ऐतबार,
कि तुम ही हो मेरा प्यार।।
तुम ही हो मेरा प्यार।।

रवि कुमार
गुरुग्राम 
हरियाणा

 

1+
comments
  • Facebook instagram aur whatsapp ki bate kuchh thik nahi lag rahi h aisa lag rahi h ye apki kavitao ka majak bana rahi h

    0

  • Leave a Reply

    Create Account



    Log In Your Account