Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

मेरी मां – चेतन वर्मा

मां तो मां होती है जैसी भी होती है
मां तो मां होती है

अपनी ममतामई माटी की सजी होती है
आसमान जैसे दिल की राशि होती है
दुख देखकर पली-बढ़ी होती है
जैसे भी होती है मां तो मां होती है

सब दुखों को हर कर बड़ी होती है
अपने ही आंगन में खुश होती है
थोड़ी बड़ी होती है तो अपनों से पराई होती है
अपनों को छोड़ कर दूसरों के घर की होती है
जैसे भी होती है मां तो मां होती है

पग पग पर संघर्ष करके खड़ी होती है
घर आंगन की चिंता में खुद पागल होती है
बच्चों के दिल में प्यार भरने में माहिर होती है
आच ना आए अपने परिवार पर इसलिए सबसे आगे होती है
जैसे भी होती है मां तो आखिर मां होती है

chetan vermaचेतन वर्मा
( बूंदी ) राजस्थान

85 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Chetan Verma

Chetan Verma

मैं चेतन वर्मा बूंदी राजस्थान का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

Leave a Reply

प्यार….1-चौहान-संगीता-देयप्रकाश

आज के वक़्त में बहुत प्रचलित शब्दों में से एक है” प्यार”. क्या इसका सही अर्थ पता है हमें? इसका जवाब देना ज़रा मुश्किल है.शायद

Read More »

Join Us on WhatsApp