Notification

औकात-माला-चौधरी

दिल आने की बात है यारो
💞
अपने बस की बात ही क्या
💞
प्यार अगर हो पत्थर से
💞
तो हीरे की औकात ही क्या
💞
ऐसी कशिश है चाहत में
💞
कि तीर जिगर के पार हुआ
💞
चाहे ख़ून रिसे जख्मों से
💞
लेकिन दर्द का एहसास ही क्या
💞
टुकड़ों में टूटे बिखरे दिल
💞
होठों पर कोई आह कहां
💞
दिल आने की बात है यारों
💞
अपने बस की बात ही क्या
💞
प्यार अगर हो पत्थर से
💞
फिर हीरे की औकात ही क्या
💞
💔

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp