Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पापा – चेतन वर्मा

अगर मैं कुछ भी हूं तो सब कुछ है पापा
हर राह हर मोड़ पर साथ देते हैं पापा
जान कर भी बेइंतहा प्यार देते हैं पापा
जाने अनजाने में हुई गलती को माफ कर देते हैं पापा

उंगली पकड़ कर चलने का हुनर सिखाते हैं पापा
गुस्सा कर कर भी हर जिद पूरी करते हैं पापा
जिंदगी को इतनी हसीन बनाते हैं पापा
कोई मेरी औलाद को बुरा ना कह दे
इसलिए फिक्र करते हैं पापा

बिल्कुल भी वक्त ना हो फिर भी हर वक़्त साथ देते हैं पापा आसान नहीं है आपको समझना पर हम भी आपको बहुत प्यार करते हैं पापा

chetan vermaचेतन वर्मा
(बूंदी) राजस्थान

79 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Chetan Verma

Chetan Verma

मैं चेतन वर्मा बूंदी राजस्थान का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp