Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पथिक-राम अवतार

कविता का नाम - पथिक

रचनाकार -रामावतार चन्द्राकर

ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना,
शूल है बिखरे हुए हर पथ पर,तुम मत कभी मचलना । 🌻
सुन ले पथिक कभी भूल न जाना ,दुनिया की ये चाले,
चलते चलते पांव में दोनों ,तेरे पड़ सकते हैं छाले ।
आत्मविश्वास और स्वाभिमान की ,भावना मन मे भरना,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना ।

                            🌻

बहुत जटिल और उलझी हुई है ,जीवन की पगडण्डी,
मानो लगा चहूं ओर हर कहीं, छल कपट द्वेष की मंडी।
उलझ न जाना, बेर सी कांटे,सम्भल सम्भल पग धरना ,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के,पग पग देख के चलना।

                         🌻              

मानवता की पृष्ठभूमि पर ,मानवधर्म कुछ ऐसा गढ़ देना ,
मानव बनने का दृढ़ मन्त्र ,तुम हर मानव पर मढ़ देना ।
मानव, मानव बन जाये बस,इतना ही फर्ज अदा करना ,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना
🌻
शुचिता का भाव लिए मन मे ,कर्तव्य बोध की लाठी टेक,
पर सेवा पर उपकार सदा ,गैरो में भी अपनापन देख ।
जो जन दीन दुखी असहाय , भूल के भी न उसे छलना,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना ।
🌻
मन मे नही राग न द्वेष कहिं ,तुम ऐसा जीवन अपनाना,
जीवन के मुश्किल घड़ियों में ,दुसवारियों से ना घबराना।
उत्साह और सौहार्द भरा दिल,हिल मिल सबसे निभना,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना ।

                                🌻

पर्वत सा अडिग हो तेरा मन ,जो झुके न बुरी अदाओ से ,
जीत लेना लोगो का दिल तुम ,प्रेम की मीठी सदाओं से ।
कर्मठ कठिन दृढ़ लेखनी से,तुम्ह रूठे भाग्य को बदलना,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना ।

                           🌻

जो भटक रहे कर्तव्यों से ,उनको यह मार्ग सुझा जाना ,
जो जला रहे घर अपना ही ,उस चिंगारी को बुझा जाना ।
तुम्ह मित्रकिरण की भांति ,जग में फैले तम को दलना ,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना । 🌻
मानवधर्म के मंजिल हेतु ,सुन ऐ पथिक अवतार हो तुम्ह,
राह चराचर को दिखलाने, कर्तव्य पुरुष उदार हो तुम्ह ।
भावी पीढ़ी के कर्णधार तुम ,नित ज्योतिर्मय हो जलना,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना ।

                            🌻

दसानन रूपी बुराई हेतु ,तुम धरना राम अवतार सदा ,
युवाओं के विस्मृत ललाट पर ,बनना स्मृति करतार सदा।
शुचि जन मन के उद्धारक बन,पथ को पवित्र तुम्ह करना,
ऐ राह ए मुसाफिर जीवन के ,पग पग देख के चलना ।

जारी है ,,

126 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ramavtar

Ramavtar

मैं ग्राम महका तहसील पंडरिया जिला कबीरधाम छत्तीसगढ़ से हूं

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp