Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

“परीक्षा के बाद विद्यार्थी की स्थिति”-प्रिंस स्प्तिवारी

                  “परीक्षा के बाद विद्यार्थी की स्थिति”

सोच रहा है छात्र विचारा, क्या होगा परिणाम हमारा I
परीक्षा तो मैंने मन से दी थी, लेकिन पढाई कुछ न की थी II
कुछ पेपर से प्रश्न ही लिख दिए, कुछ के उत्तर ठीक लिख दिए I
कुछ के उत्तर ताक – झाँक के , कुछ के उत्तर पूछ – पाँछ के II
थोड़ी सी मेहनत की होती, चमक उठता किस्मत का सितारा I
सोच रहा है छात्र विचारा, क्या होगा परिणाम हमारा II
स्कूल पहुँच कर रोज सवेरे, खेल मैदान के लेते फेरे I
टीम बनाकर दिनभर खेले, कहते सब हो दोस्त मेरे II
आठों कालांश व्यतीत हो गए, लेकिन उसमें कुछ ना सीखे I
घर पहुंचे तो बहुत थक गए, माँ से बोले दिन भर पढ़के II
प्यार करती माँ ढेर सारा, रोशन करेगा नाम हमारा I
सोच रहा है छात्र विचारा, क्या होगा परिणाम हमारा II
हिन्दी में व्याकरण कठिन है, अंग्रेजी की शब्दावली बहुत है I
गणित में गणना करते – करते, रसायन के समीकरण जटिल है II
भौतिक की वो विद्युत धारा, समझ ना आया ये खेल सारा I
सोच रहा है छात्र विचारा, क्या होगा परिणाम हमारा II
कुछ दिन में परिणाम आयेगा, बेटा मेरा नाम करेगा I
डाक्टर या तो इंजीनियर बनेगा, सोच रहा है पिता विचारा II
कैसे सपना पूरा होगा, क्या होगा संसार हमारा I
सोच रहा है छात्र विचारा, क्या होगा परिणाम हमारा II

                              संदेश :

तूफानों से लड़ना सीखो, सैलाबों पर वार करो I
मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो II

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp