Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पूर्ण आजादी

क्हने को तो भारत हो गया था आजाद
15 अगस्त सन 1947 को
64 वर्ष बीत गए हैँ-2
अबतक हुआ नहीँ पूर्ण आजाद

है यहाँ अभी भी लुट-डकैत और भ्रष्टाचार
इसके लिए लडे है कई देशभक्त
अन्ना हजारे और कई हजार

कोई लडता है धन के लिए
कोई लडता है परिवार के लिए
पर हमारे अन्ना हजारे जी
लड रहेँ है समाज के लिए

जिन्होने सहे इसके लिए कई कष्ट
उड गई जिनकी रातोँ की नीँद
हो जाएंगे वो सफल
जब हो हमारा साथ उनके साथ

फिर आएगी दुल्हन बनके
पूर्ण आजादी हमारे हाथ॥
वन्दे मातरम॥

  • आशीष घोड़ेला
2,085 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Ashish Ghorela

Ashish Ghorela

उभरते हुए रचनाकारों और लेखकों को एक समृद्ध मंच प्रदान करने के लिए मैंने अपने सहयोगियों के साथ मिलकर 26 जनवरी 2017 को साहित्य लाइव की शुरवात की। जिससे उभरते हुए रचनाकारों का सम्पूर्ण विकास हो सके तथा हिंदी भाषा का प्रचार और विकास में वृद्धि हो सके। वैसे मैं हिसार (हरियाणा) का निवासी हूँ और दिशा-लाइव ग्रुप का संस्थापक हूँ।

Leave a Reply

जागो और अपने आप को पहचानो-प्रिंस स्प्तिवारी

मैंने सुना है कि एक आदमी ने एक बहुत सुंदर बगीचा लगाया। लेकिन एक अड़चन शुरू हो गई। कोई रात में आकर बगीचे के वृक्ष

Read More »

Join Us on WhatsApp