Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

पुरानी दोस्ती-दरोष्ठी भदजा

दोस्त , हमारी दोस्ती है बरसो पुरानी ,
साथ साथ खेले थे वो खेल पुराने ,
दोस्त , हमारी दोस्ती है बरसो पुरानी .

हर पल हर घडी थे तुम साथ मेरे ,
हर गम हर खुशिया भी साथ तेरे ,
दोस्त , हमारी दोस्ती है बरसो पुरानी .

साथ में स्कूल जाना साथ साथ वापस आना ,
कॉलेज की वो सारे लम्हे गुजरे थे तेरे साथ ,
दोस्त , हमारी दोस्ती है बरसो पुरानी .

कभी तुम्हारा गम तो कभी मेरा गम,
तेरी मेरी खुशिया , बाँट थे हर रोज,
दोस्त , हमारी दोस्ती है बरसो पुरानी .

खाना पीना खेलना वो सारी बाते ,
आज भी वो पल हर पल याद है,
दोस्त , हमारी दोस्ती है बरसो पुरानी.

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp