साहित्य – दिशा शाह

साहित्य – दिशा शाह

साहित्य देश की शान है
हिंदी देश का गौरव है

साहित्य विना हिंदी नहीं
हिंदी बिना साहित्य अधूरा है
साहित्य इंसान की सोच को बदलता है
इंसान को सही मार्ग दिखता है
इंसान के अंदर छुपाती बुराई
को साहित्य नाश करता है
और संसार पर नया परिवर्तन लता है
समाज पर नयी शुरुआत होती है
देश को नहीं रणनीति मिलती है
देश का रोशन होता है
साहित्य बिना ज़िन्दगी अधूरी है
साहित्य बिना देश अधूरा है

दिशा शाह
कोलकाता (पस्चिम बंगाल)

साहित्य – दिशा शाह
5 (99%) 20 votes

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account