Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

साथ-दीप्ती यादव

मुझे तुमसे कितनी मोहब्बत है
ये तो तुम्हेँ वक्त ही बताएगा

जब कोई न होगा साथ तुम्हारे
तब मुझे ही तुम अपने साथ पाओगे

जब घिरे रहोगे तुम मुश्किलों से
तब मैं ही तुमहारा हाथ थामुगी

जब हो जाओगे तुम तन्हा
याद तुम्हेँ मेरी ही आएगी

आजमा लो तुम जहा क मोहब्बत को
मोहब्बत तुम्हेँ मुझ सा कही ना मिलेगा

आज जिन्हें तुम अपना समझते हो
जब वो भी तुम्हे छोड़ जायेगे
तब मुझे ही तुम अपने साथ पाओगे|

56 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
dipti-yadav

dipti-yadav

DIRECTOR OF RM REPORTER NEWS CHANNEL

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp