Notification

बदनसीब समाज-साजन

क्या कैद कर दूं मैं बेटियों को किसी घर में
क्या काट दूं उनके पंखों को जो उड़ रहीं हैं इन आसमा में
ए समाज तेरी दरिंदगी देख मैं मर क्यों नहीं जाता
मगर मरने से पहले सबको मार क्यों नहीं जाता

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp