Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

दिल चाहता है उसको मै यह उपहार दे दूँ -देवेंद्र अवस्थी

दिल चाहता है उसको मै यह उपहार दे दूँ
दिल पर पत्थर रखूँ और उसको ब्लाॅक कर दूँ,

पर ब्लाॅक देने से कुछ भी तो न बदल पायेगा
फ़िर ब्लाॅक करके क्यूँ मै उसे आजाद कर दू़ँ,

अभी तलक तो उसने मुझको तन्हा ही देखा है
तन्हायी में जीने का क्यू ना उसे आभास करा दूँ,

अभी बहुत से एहसासों से वो बेखबर रहते है
क्यूँ ना उन एहसासो से उनको मुखातिर कर दूँ,

मै कितना बुद्धू हूँ इसका जो एहसास कराया है
बुद्ध भी बन सकता हूँ क्यूँ न मै साबित कर दूँ,

#देव…

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp