नजरिया शायरी- शोभा सृष्टि

नजरिया शायरी- शोभा सृष्टि

जिंदगी पत्थर नही बहता दरिया होती है।
यह ख्वाबों को पूरा करने का जरिया होती है।
यू तो हर शख्स यहाँ अलग नजर आता है।
क्योकि हर शख्स की पहचान उसका अपना नजरिया होती है।

                           शोभा सृष्टि
                    करौली, राजस्थाननज

3+

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account