Notification

सियासत-अर्श पठान

हुक्मरानों के हुकम बिक गए।
अपनों के भरम बिक गए।
अखबार तो बिके हि थे साहब,
अब जजों के कलम बिक गए।
Arsh p…

Leave a Comment

Connect with



Join Us on WhatsApp