Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

शायरी – शुभम् लांबा

सच कहूं तो जिंदगी ऐसे मुकाम पर है,

लगता है, कहानी खत्म होने वाली है,

और तुम मेरी आखरी मोहब्बत हो।

#शुभम् लांबा

105 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Subham Lambha

Subham Lambha

मैं शुभम लाम्बा गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ। मैं वीर रस और श्रृंगार रस का कवि हूँ। मैं B. Tech Mechanical इंजिनीअर हूँ। और वर्तमान मे JSW Steel Ltd. Karnataka मे कार्य कर रहा हूँ।

2 thoughts on “शायरी – शुभम् लांबा”

  1. 84164 478035Following examine a couple of of the weblog posts within your web site now, and I truly like your manner of blogging. I bookmarked it to my bookmark internet site list and may well be checking back soon. Pls take a look at my site as effectively and let me know what you feel. 176966

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp