Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

शायरी – शुभम् लांबा

तेरे हुस्न को चाहने वाले लाखों होंगे,
पर तेरी रूह की चाहत सिर्फ मुझे है।

शुभम् लांबा

88 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Subham Lambha

Subham Lambha

मैं शुभम लाम्बा गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ। मैं वीर रस और श्रृंगार रस का कवि हूँ। मैं B. Tech Mechanical इंजिनीअर हूँ। और वर्तमान मे JSW Steel Ltd. Karnataka मे कार्य कर रहा हूँ।

1 thought on “शायरी – शुभम् लांबा”

  1. 479187 33566youve got an essential weblog right here! would you wish to make some invite posts on my weblog? 427402

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp