सोना बाबू – चेतन वर्मा

सोना बाबू – चेतन वर्मा

तू मेरा सोना है ,
तू ही मेरा बाबू है,
तू मेरी जान है ,
तेरे दिल के कोने में बसता मेरा ही नाम है

तू मेरी धड़कन है ,
तू ही मेरा दिल है ,
तू वक्त का मिजाज है ,
तेरी रूह के किस्से में बसता मेरा ही ख्वाब है

तू मेरी रानी है,
तू ही मेरी अप्सरा है ,
तू जिंदगी का आवाहन है,
तेरे मन के दर्पण में बस्ती मेरी ही तस्वीर है

तू मेरा आज है ,
तू ही मेरा कल है,
तू मेरा हर पल है,
तेरे चंद लफ़्ज़ों में बसता मेरा ही कल-कल है

chetan vermaचेतन वर्मा
(बूंदी ) राजस्थान

Ravi Kumar

मैं रवि कुमार गुरुग्राम हरियाणा का निवासी हूँ | मैं श्रंगार रस का कवि हूँ | मैं साहित्य लाइव में संपादक के रूप में कार्य कर रहा हूँ |

Visit My Website
View All Articles

I agree to Privacy Policy of Sahity Live & Request to add my profile on Sahity Live.

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account