Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

तू बस हिसाब रख – बबिता खंडूरी

भुला देंगे एक रोज तुझको
तू जरा इत्मिनान रख
अपने एक एक बदलाव का
तू बस हिसाब रख !
अभी मजबूर है आह मेरी
यादों की उन राहों में
कोशिश कर आगे बढ़ेंगे
तू जरा ऐतबार रख
अपने बदलते लफ्जों का
तू बस हिसाब रख !
कोशिश लाख की मैंने संभाले
संभल जाएं दिलों के रिश्ते
आज टूटे बिखरे एहसास हुए
तेरी नजरों में सस्ते !
लेकर चले जाएंगे
एहसासों को खुद संग
तू बस इत्मिनान रख
अपने भूले वादों का
तू बस हिसाब रख।

Babita Khanduriबबिता खंडूरी
फरीदाबाद, हरियाणा

225 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Babita Khanduri

Babita Khanduri

मैं बबीता खंडूरी फरीदाबाद हरियाणा की निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस की कवित्री हूँ।

1 thought on “तू बस हिसाब रख – बबिता खंडूरी”

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp