तू बस हिसाब रख – बबिता खंदूरी

तू बस हिसाब रख – बबिता खंदूरी

भुला देंगे एक रोज तुझको
तू जरा इत्मिनान रख
अपने एक एक बदलाव का
तू बस हिसाब रख !
अभी मजबूर है आह मेरी
यादों की उन राहों में
कोशिश कर आगे बढ़ेंगे
तू जरा ऐतबार रख
अपने बदलते लफ्जों का
तू बस हिसाब रख !
कोशिश लाख की मैंने संभाले
संभल जाएं दिलों के रिश्ते
आज टूटे बिखरे एहसास हुए
तेरी नजरों में सस्ते !
लेकर चले जाएंगे
एहसासों को खुद संग
तू बस इत्मिनान रख
अपने भूले वादों का
तू बस हिसाब रख।

Babita Khanduriबबिता
फरीदाबाद, हरियाणा

तू बस हिसाब रख – बबिता खंदूरी
3.8 (76.36%) 11 votes

comments
  • Beautiful lines

  • Leave a Reply

    Create Account



    Log In Your Account



    %d bloggers like this: