Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

तुझे ढूंढ़ने निकलें या खुद को भूलाने निकलें – नेहा श्रीवास्तव

तुझे ढूंढने निकलें या खुद को भूलाने निकलें,
तुझे भूलने के फिर से कई बहाने निकलें।
अब हसरते नही हैं दिल मे कोई नई,
मंजिल वही पुरानी ,ख्वाब पुराने निकलें।
यूँ मुक्कदर भी परखता रहा जब वक्त की मशाल पर,
मेरी हाथों की लकीरों मे कई फ़साने निकलें।
जब अपनो से अपनेपन का फासला खत्म हुआ,
गैरों की दहलीजों पर दिल को बहलाने निकलें।
जब लोग संजीदा रहने लगें खुद के शहर मे,
हम फिर से एक बार मुस्कुराने निकलें।
उस दर पर कोई खुदा दिखता नही ,
मयकदे पहुँचे तो खाली पैमाने निकलें।
कोई खफा है मुझसे एक जमाने से बहुत ,
आज हर मसले को सुलझाने निकलें।
तेरे दर से लौट आया हूँ कई बार मगर,
जालिम तेरे तो कई ठिकाने निकलें।

Neha srivastavनेहा श्रीवास्तव
उत्तर प्रदेश(बलिया)

1 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Neha Srivastava

Neha Srivastava

मैं नेहा श्रीवास्तव बलिया उत्तरप्रदेश की निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस की कवित्री हूँ। मैंने B.ED Science में शैक्षणिक योग्यता प्राप्त की है। मैंने साहित्य लाइव रंगमंच 2018 (राष्ट्रीय स्तर पर हिंदी प्रतियोगिता) में द्वितीय स्थान प्राप्त किया है।

6 thoughts on “तुझे ढूंढ़ने निकलें या खुद को भूलाने निकलें – नेहा श्रीवास्तव”

  1. बहुत बढिया, बेहतरीन रचना अब हसरते नही है दिल मे कोई नही , मंजिल वही ख्वाब पुराने निकले वाहहह जबरजस्त बाकी सभी भी लाजवाब आप बहुत अच्छा लिखती है लिखना जारी रखे।

Leave a Reply

मांगलिक (भौम) दोष

मांगलिक दोष क्या होता है सामान्यतः किसी भी व्यक्ति की जन्मकुण्डली में प्रथम, चतुर्थ, सप्तम, अष्टम या द्वादश भाव में मंगल का स्थित होना मांगलिक

Read More »