Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

💞💞💞 वो अनोखी बरसात…।💞💞💞-अर्चिता-प्रिया

वो बिन मौसम बरसात का आना
मेरा सड़कों पर कहीं छुप जाना
वो बारिश का पानी…. गीली सड़कें
छम छम करके पायल का संगीत सुनाना
गुलाबी सूट में उसकी खूबसूरत जवानी
वो बिजली का चमकना
वो बूंदों का गिरना
वो उसका मचलना
हवाओं के झोंके से कांधे का दुपट्टा सरकना
बड़े शोख… दिलकश थी उनकी रवानी
वो बारिश के पानी में करती
उसकी अलहड़ सी अठखेलियां
वो हंसना.. उसे देख कर मेरा मुस्कुराना
उसका घबराकर स्तब्ध रह जाना
उसके चेहरे से मेरी नजर का ना हटना
वो उसका मुंह बनाकर पीछे मुड़ जाना
दुपट्टा संभाल कर के पीछे छुप जाना
बड़े दिलकश थी उसकी रवानी
दिल में घर कर गई उसकी नादान जवानी
ना जाने कहां खो गई
वो बरसात की रानी
वो सपना थी या कोई कल्पना
वो अदृश्य लड़की आंखों में बस गई
ऐसी अनोखी एक बरसात हो गई ।।

धन्यवाद दोस्तों🙏🏼🙏🏼💐💐

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp