एक पहल- प्रियंका शुक्ला

एक पहल- प्रियंका शुक्ला

बात एक साल पहले की है अनुपना के लिए रिश्ता आया , सब बहुत खुश थे । अनुपमा की माँ रतना रसोई से चिल्लाते हुये बाहर आयी – अरे कोई अनु को देखो तैयार हुयी या नहीं लड़के वाले पहुँचते ही होगें , हमें भी जल्दी मन्दिर निकलना चाहिए। अनु की भाभी नेहा उसे लेकर
Complete Reading

प्रयास करना कभी मत छोड़ना -विकी पेटिल

यह कहानी उस शिष्य कि है जो अपने गुरूजी के आश्रम में कई सालो से gyaan पाने के लिए प्रयास कर रहा था! उस शिष्य के साथ आए सभी शिष्य अपनी अपनी शिक्षा पूरी करके अपने अपने घर लौट गए । परंतु उस शिष्य ने किसी कारणवश ऐसा प्रण ले लिया था कि जब तक
Complete Reading

वीर विक्रमादित्य भाग 15-सोलंकी हितेश

नमस्कार दोस्तों राजा विक्रमादित्य स्टोरी का भाग 15 पसंद आए तो प्लीज लाइक और कमेंट जरूर कीजिए उज्जैन नगरी में महासेन नाम का राजा राज करता था। उसके राज्य में वासुदेव शर्मा नाम का एक ब्राह्मण रहता था, जिसके गुणाकर नाम का बेटा था। गुणाकर बड़ा जुआरी था। वह अपने पिता का सारा धन जुए
Complete Reading

दर्द की बारिश-ओमकांति

1भाग- मेरा दम घुट गया था उस दिन जिस दिन तुमने कहा था कि उसकी तरह प्यार करो जिससे मै मोहब्बत करता हूं।राहुल मैंने क्या न किया तुम्हे पाने के लिए । जैसा तुमने कहा मैंने वैसे ही किया ।उसकी तरह बिंदिया लगाया उसकी तरह लाली उसकी तरह बाल फिराया उसकी तरह साड़ी पहनी यहां
Complete Reading

वीर विक्रमादित्य भाग 14-सोलंकी हितेश

नमस्कार दोस्तों आपको राजा वीर विक्रमादित्य सॉरी का का भाग.14 जो पसंद आए तो प्लीज लाइक और शेयर कीजिए अयोध्या नगरी में वीरकेतु नाम का राजा राज करता था। उसके राज्य में रत्नदत्त नाम का एक साहूकार था, जिसके रत्नवती नाम की एक लड़की थी। वह सुन्दर थी। वह पुरुष के भेस में रहा करती
Complete Reading

सकारात्मक सोच-अनुरंजन कुमार यादव

एक व्यक्ति के दो लड़के थे। जिसमें से एक लड़का सकारात्मक सोच वाला था वह हमेशा दूसरे की भलाई सोचता था और दूसरा लड़का बहुत नकारात्मक सोच रखता था स्वभाव बहुत क्रोधी भी था एक दिन अपने दोनों लड़के की परिक्षा लेने के लिए जंगल में ले गयें ।जंगल में एक आम का पेड़ था
Complete Reading

अनोखी बिटिया-उमेश चन्द यादव

शहर के कोने में एक हँसता खेलता परिवार रहता था। उस परिवार में पति – पत्नी और उनकी पाँच बेटियाँ थीं। समय बीतने लगा और पत्नी के पैर भारी देख पति ने धमकाते हुए कहा इस बार अगर बेटी हुई तो मैं उसे सड़क पर फेंक दूँगा। यह सुन पत्नी रोकर कहने लगी इसमें उसका
Complete Reading

महान पिताजी -विकी पटिल

कहते हैं जी तो कुछ भी चाहता है, ये करू , वो करू , पैसा कमाऊ, अमीर बनु , नाम कमाऊ, हमेशा खुश रहु, लेकिन जो जी चाहता है वह सब पुरा नहीं होता । होता भी है लेकिन बहुत कम, पांच साल का था मैं , जब आखरी बार अपने पिता की सुरत देखी
Complete Reading

नज़रिया-रोहित कुमार

नजरिया , एक ऐसा शब्द जिसे समझना हर इंसान के लिए बहुत ही जरूरी है क्योंकि हर किसी को हक़ है अपनी बात रखने का और अपनी सोच रखने के हिसाब से किसी भी मुद्दे पर चाहे उसका सोच सही हो या गलत , अब बात आती है हर इंसान के लिए और ये समझना
Complete Reading

वीर विक्रमादित्य भाग 14-सोलंकी हितेश

दोस्तों वीर विक्रमादित्य भाग 13 पसंद आए तो लाइक करना शेयर करना और सब्सक्राइब कीजिए किसी ज़माने में अंगदेश मे यशकेतु नाम का राजा था। उसके दीर्घदर्शी नाम का बड़ा ही चतुर दीवान था। राजा बड़ा विलासी था। राज्य का सारा बोझ दीवान पर डालकर वह भोग में पड़ गया। दीवान को बहुत दु:ख हुआ।
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account