Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

गुनाह (लघु कथा) – वीरेंद्र देवांगन

कैलाश को समझ में नहीं आ रहा है कि कई कोशिशों के बावजूद उसे अपने काबिल बेटों के लिए बहुएं क्यों नहीं मिल रही हैं? जबकि वह तमाम जतन कर चुका है! यहां तक कि वह शादी डाॅटकाम में, अनेक शहरों-नगरों के मैट्रोमनीज्स में, अपने बेटों के बायोडाटा का रजिस्टेशन करवाया है।
छोटे-बड़े सभी समाचारपत्रों में लगातार इश्तहार तक दिया है; जिसमें ऐलान किया  है कि उसे दहेज का तनिक लालच नहीं है। उसे केवल और केवल बहुएं चाहिए। उन्हें एक साड़ी में भी विदा करेंगे, तो भी स्वीकार्य होगा।
यह भी कि वह बहुओं की शादी अपने खर्चे से करने के लिए तैयार है। फिर चाहे जितना भी खर्च आए। वह नामी-गिरामी पंडितों को भी इस काम में लगा रखा है। वह रिश्तेदारों और मित्रों से लड़कियां पता करवा रहा है; लेकिन अफसोस कि कहीं से कोई जवाब नहीं आ रहा है। किसी से बात जम नहीं रही है। यही नहीं, वह क्षेत्र, प्रांत, धर्म व जाति के बंधन को तोड़ने को तैयार है।
लिहाजा, कहीं-कहीं लड़की होती है एक; पर उसे पसंद करनेवाले और मुॅंहमांगा लालच देनेवाले होते हैं अनेक। गोया, एक अनार; सौ बीमार की हालत हो गई हो। अब तो उसे लगता है कि वह इस दौड़ में पिछड़ने लगा है।
तभी उसे ख्याल आया कि लड़कियों की इस कमी के लिए वह भी कम गुनेहगार नहीं है। वह अपनी दो-दो बेटियों को गर्भ में ही मौत की नींद सुला चुका है। पहले अभी सरीखा कड़क कानून नहीं था, इसलिए उससे यह कसूर धोखे से हो गया है।
इसका ख्याल आते ही तीस बरस पुरानी वह धटना उसके दिलोदिमाग में एक-एककर कौंधने लगा, जिसमें उसने ऐसा महापाप किया था। ओह…वह अपना माथा पीट लिया। उसे अब पछतावा होने लगा। लेकिन अब होत क्या, जब चिड़िया चुग गई।
अब उसे बेटियों का महत्व समझ में आने लगा कि बेटियों को मारेंगे, तो बहू कहां से लाएंगे। यही दुनिया की रीत है। वह भी इसी दुनिया का वाषिंदा है।
कथाकार का पूरा नाम एवं पताः
वीरेंद्र देवांगन
बोरसी, दुर्ग , छत्तीसगढ़
9406644012
84 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
DishaLive Group

DishaLive Group

Hi, This account has articles of multiple authors. These all written by Sahity Live Authors, but their profile is not created yet. If you want to create your profile then send email to [email protected]

5 thoughts on “गुनाह (लघु कथा) – वीरेंद्र देवांगन”

  1. 416336 909380This will probably be a fantastic internet site, may well you be interested in performing an interview about how you developed it? If so e-mail me! 628536

  2. 482889 976780bless you with regard towards the particular weblog post ive actually been searching regarding this kind of info on the internet for sum time correct now as a result cheers 556698

  3. 356159 698321I see your point, and I totally appreciate your article. For what its worth I will tell all my friends about it, quite resourceful. Later. 692351

Leave a Reply

जागो और अपने आप को पहचानो-प्रिंस स्प्तिवारी

मैंने सुना है कि एक आदमी ने एक बहुत सुंदर बगीचा लगाया। लेकिन एक अड़चन शुरू हो गई। कोई रात में आकर बगीचे के वृक्ष

Read More »

Join Us on WhatsApp