Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

हि‍न्‍दी हमारी आत्‍मा है- मनोज कुमार

आज हि‍न्‍दी दि‍वस पर हमें या देशवासि‍यों को हि‍न्‍दी जो की हमारी मूल भाषा है, को अपने दैनि‍क जीवन में ज्‍यादा से ज्‍यादा काम लेने की अपील करनी पड रही है यह हमारे लि‍ए कोई गर्व का वि‍षय नहीं है ा यकीनन आज अग्रेंजी की जरूरत वि‍श्‍व बि‍रादरी में देश को आगे बढाने के लि‍ए है लेकि‍न हि‍न्‍दी से हमारा जन्‍मजात रि‍श्‍ता है , हमारी सभ्‍यता हमारा गौरव इस सरल सहज भाषा से जुडा हुआ है, नया सीखना बहोत बढि‍या है पर पुराना भूल जाना भी कोई समझदारी नही है, हमें दुनि‍या में कहीं भी जो सम्‍मान हम भारत वासि‍यों को हि‍न्‍दी से मि‍ल सकता है वो कि‍सी आैर भाषा से नहीं ा क्‍योकि‍ं यह हमारे मूल से जुडी है, हमें वि‍कास की गति‍ मे हि‍न्‍दी भाषि‍ हाेना है, हॉ जरूरत हाेने पर अग्रेंजी व अन्‍य भाषाऍ जो हमें आती है का इस्‍तेमाल हमें करना ही होगा, लेकि‍न हम अपने घर के बुजूर्ग का सम्‍मान करना तो नहीं छोड सकते उसकी उपयोगि‍ता को नहीं नकार सकतें ाा हि‍न्‍दी हमारी आत्‍मा है और आत्‍मा शरीर से कहीं ज्‍यादा कीमती होती है ा

 

Manoj Kumar

  मनोज कुमार

जयपुर, राजस्थान 

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
MANOJ KUMAR

MANOJ KUMAR

मैं मनोज कुमार जयपुर राजस्थान का निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस का कवि हूँ।

3 thoughts on “हि‍न्‍दी हमारी आत्‍मा है- मनोज कुमार”

  1. 651908 185447Cheapest player speeches and toasts, or possibly toasts. continue to be brought about real estate . during evening reception tend to be likely to just be comic, witty and therefore instructive as well. best man speeches free 467558

Leave a Reply

अयोध्या से प्यार है हमें कितना?

किसी ने नब्ज देखी हमारी, और हमे बीमार लिख दिया। रोग जब हमने उनसे पूछा, तो अयोध्या से प्यार लिख दिया। मै शुक्रगुजार रहूंगी उस

Read More »