Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

जुनुन हो तो असंभव संभव मे वदल जाते है – पूजा कुमारी

कहानी हम उस छोटी- सी गाँव की कहते है| जहाँ एक लड़की अपनी पहचान ही नही वल्की इस दुनिया मै अपनी मन की बात भी कह दी है| वह करीब 14 साल की थी ओर वह 10 मै पढ़ती थी वह जब सोती थी तो उसे हमेशा सपने मै एक लड़का नजर आते थे| वह समझ नही पाती थी कि यह क्या है वह लड़का बार – बार मेरी सपनो मै क्यो आता है| क्योकी बह लड़की लड़के से घृणा करती थी वह लड़के को बुरा मानती थी ओर वह कभी लड़के को देखना नही चाहती थी| पर वह लड़का सपनो मै बार – बार आता था ईश तरह समय बितता गया बह जो लड़की जो लड़के से घृणा करती थी अाज वह जो लड़का सपनो मै आता था उसे उसको प्यार हो गया| वह अनजान थी पर वह उस लड़के के बिना जी नही पाती थी वह उस लड़के से हमेशा मन ही मन कभी बाते करती थी तो कभी हँसते थी तो कभी उस लड़के से मिलने की वेचेन रहती थी तो कभी उसे ढ़ुढ़ने की वह कभी स्कुल तो कभी मंदिर तो कभी रास्ता मै मिलने की जुनुन रहती थी| वह सोचती थी कि क्या वह लड़का जो मेरी सपनो मै आता है वह सच मै है या नही| लेकिन वह उसे पाने की जो जुनुन था जो उसे लगता था वह हमे जरूर मिलेगा| लेकिन वह समझ नही पाती थी आखिर वह क्या करेगी| एक दिन वह उस लड़के को दिल की अवाज से वुलाई जैसे लगा की वह लड़का उसके पास है| पर वह देख नही पा रही है| वह अपनी मन की इस बात को दुनिया के सामने लाने की छान ली| ओर वह सोचने लगी अगर मै उस लड़के से सच मै प्यार करती हुँ तो वह लड़का मुझे जरूर मिलेगे| अगर वह इस दुनिया मै नही भी होगा तो भी भगवान उसे इस धरती पर मेरे लिए जरूर भेजेएगे| ओर उस लड़की की जुनुन ओर बिश्बास सच हो गया| अगर आप मै सच मे जुनुन हो तो असंभव को संभव कर देगे वस जुनुन हो|

Pooja Kumariपूजा कुमारी
समस्तीपुर बिहार

1 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Pooja Kumari

Pooja Kumari

मैं पूजा कुमारी समस्तीपुर बिहार की निवासी हूँ। मैं श्रृंगार रस की कवित्री हूँ।

2 thoughts on “जुनुन हो तो असंभव संभव मे वदल जाते है – पूजा कुमारी”

  1. Aradhana singh

    जी आपका शीरषक पढ़कर तो एेसा लगा की जैसे आप ने एेसी बात लिखी होगी की हमें भी कुछ प्रेरणा मिलेगी परन्तु आपने तो एक प्रेम को पाने का जुनून लिखा है।
    अाधुनिक युग में तो बिना कहे ही प्यार पाने का जुनून रखते है कुछ और इससे हटकर लिखती आप

Leave a Reply

दोस्ती की कहानी विद शायरी

. “दोस्ती की कहानी विद शायरी” परेशान मोहन को देखकर उसका दोस्त उसके पास जाकर बोला, ” क्यों होकर खफा यूँ परेशान बैठे हो ।

Read More »

दोस्ती की कहानी विद शायरी

परेशान मोहन को देखकर उसका दोस्त उसके पास जाकर बोला, ” क्यों होकर खफा यूँ परेशान बैठे हो । क्या तोड़ दिया दिल किसीने, जो

Read More »