Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

किसान और भालू-मुकेश परमार

एक किसान अपना खेत जोत रहा था |अचानक कंही से भालू आ गया | भालू किसान को मारने झपटा | किसान ने कहा मुझे क्न्यो मारते हो फसल आने दो जो कहोगे वही खिलाऊंगा |भालू ने कहा जमीन के ऊपर की फसल मेेरी औऱ नीचे तुम्हारी रहेगी किसान ने आलू बो दिय |फसल आई तो भालू को पत्ती खाने को मिली भालू चिढकऱ रह गया | अगली बार भालू ने कहा देखो इस बार जमीन के निचे की फसल मेरी और ऊपर की तुम्हारी ,किसान ने गेहूं बो दीया जब फसल तैयार हुई तो किसान को मिले चमकी गहू और बालू को खाली जड़े भालू खीचकर रह गया |इस बार भालू ने किसान को मजा चखाना चाहा उसने किसान से कहा जमीन के सबसे ऊपर और जमीन के निचे की फसल मेरी किसान मान गया इस बार किसान ने लगाया गन्ना जब फसल आई तो भालू को मिले पत्ते और जड़े भालू का सिर चकरा गया |

Leave a Reply

Join Us on WhatsApp