Notification

अपने लेख प्रकाशित करने के लिए यहाँ क्लिक करें!

लघुकथाःः एक मां की चिंताःः-वीरेंद्र देवांगना

लघुकथाःः
एक मां की चिंताःः
रायपुर से जगदलपुर जा रही एक स्लीपर कोच में एक महिला अपने दो बच्चों के साथ यात्रा कर रही थी। वह दो स्लीपर वाली सीट लिए हुए थी, जिसमें उसके कथित बच्चे आराम फरमा रहे थे। एक सिंगल स्लीपर सीट में वह महिला अकेली विराजमान थी।
उसके बच्चे निश्ंिचत सो रहे थे, पर वह महिला अपने बच्चों की रखवाली में रात काट रही थी। जब बस किसी स्टापेज पर रुकती थी; वह आंखें खोल लेती थी। यात्रियों के चढ़ने-उतरने का सूक्ष्म निरीक्षण करती थी। यात्रियों से कहती थी, ‘‘बच्चे हैं, सो रहे हैं; आहिस्ता निकलें।
इस बीच एक मुसाफिर यू-टयूब में गाना चालू कर दिया, तो वह उसे झिड़कते हुए बोली,‘‘यहां सबलोग सो रहे हैं। तुमको गाना-बजाना सूझ रहा है। बंद कर ये बेढंगा गाना-वाना।’’
तेज आवाज में एक महिला के द्वारा झिड़कना, हालांकि उस आदमी को नागवार गुजरा था, पर वह एक अधेड़ महिला की कड़कदार स्वर को अनसुना नहीं कर सका। वह अपना मोबाईल तुरंत बंद कर दिया और सो गया।
जब स्लीपर कोच बस स्टापेजों में रुकती थी, तब ड्राइवर बस के अंदर की लाईट आन कर देता था, ताकि चढ़ने-उतरनेवाले यात्रियों को सहूलियत हो। यात्री आराम से चढ़ें-उतरें। यह तरीका भी उस महिला को खटका।
वह कंडक्टर को डपटती हुई बोली,‘‘बंद करो ये लाइट। इससे मेरे बच्चे डिस्टर्ब होते हैं। जलती लाइट में वे सो नहीं पाते। बंद नहीें करोगे, तो लाइट फोड़ दूंगी।’’
कड़कदार आवाज में दिए गए एक महिला सवारी के आदेश से बेचारा कंडक्टर सिटपिटा गया। सोचा; जिस मार्ग पर दस-दस मिनट में बसें दौड़ती हांे; सवारी की मारामारी हो; उस रास्ते में सवारियों की भावनाओं का ख्याल रखा जाना चाहिए। वह लाइट आफ कर दिया।
बहरहाल, अपनी गति से चलते हुए बस, जब जगदलपुर, कुम्हारपारा में सुबह-सुबह पहुंची, तब यात्रियों ने दांतो तले ऊंगली दबा लिया कि जो महिला, जिन बच्चों के निर्विध्न नींद की खातिर पूरे बस को अपने सिर पर उठा रखी थी, वे कोई 14-16 साल की अल्हड़ किशोरियां थीं।
वाकई, एक मां के लिए उसके बच्चे हर मोड़ पर बच्चे ही होते हैं।
—00—
विशेष टीपःः वीरेंद्र देवांगन की ई-रचनाओं का अध्ययन करने के लिए google crome से जाकर amazon.com/virendra dewangan में देखा जा सकता है।
–00–

66 views

Share on

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on email
Email
Share on print
Print
Share on skype
Skype
Virender Dewangana

Virender Dewangana

मैं शासकीय सेवा से सेवानिवृत्त हूँ। लेखन में रुचि के कारण मै सेवानिवृत्ति के उपरांत लेखकीय-कर्म में संलग्न हूँ। मेरी दर्जन भर से अधिक किताबें अमेजन किंडल मेंं प्रकाशित हो चुकी है। इसके अलावा समाचार पत्र-पत्रिकाओं में मेरी रचनाएं निरंतर प्रकाशित होती रहती है। मेरी अनेक किताबें अन्य प्रकाशन संस्थाओं में प्रकाशनार्थ विचाराधीन है। इनके अतिरिक्त मैं प्रतियोगिता परीक्षा-संबंधी लेखन भी करता हूँ।

Leave a Reply

ग़ज़ल – ए – गुमनाम-डॉ.सचितानंद-चौधरी

ग़ज़ल-21 मेरी ग़ज़लों की साज़ हो , नाज़ हो तुम मेरी साँस हो तुम , मेरी आवाज़ हो तुम मेरे वक़्त के आइने में ज़रा

Read More »

बड़ो का आशीर्वाद बना रहे-मानस-शर्मा

मैंने अपने बड़े लोगो का सम्मान करते हुए, हमेशा आशीर्वाद के लिए अपना सिर झुकाया है। इस लिए मुझे लोगो की शक्ल तो धुँधली ही

Read More »

Join Us on WhatsApp