विश्वासघात – जीतू दास

विश्वासघात – जीतू दास

Jitu Dassइक गांव में इक लड़का रहता था।लड़के के माँ बाप ने अपने बेटे को खूब लाड़ प्यार से परवरिस की और उच्च शिक्षा दिलाई ।लड़के ने भी बहुत महेनत कर अपनी पढाई पूरी की कुछ समय बाद लड़के की महेनत रंग लाई उसकी इक बहुत बड़ी कंपनी में नोकरी लग गई । लड़के के माँ बाप ने बहुत शूकर मनाया परमात्मा का ।जब लड़का शादी के योग्य हुआ उसी सादी कर दी गई।लड़का अपने परिवार में खुसी खुशि रह रहा था ।पति पत्नी में भी बहुत प्यार था कुछ समय सब ठीक चलता रहा लेकिन इसी दौरान उनकी जिंदगी में इक तूफान की तरह खलबली हुई ।लड़के ने अपनी पत्नी को धोखा देते हुए लड़के ने कंपनी की इक लड़की से दोस्ती की और दोनों में बहुत प्यार हो जाता है उधर लड़का अपनी पत्नी की ब्जाय अपनी उस दोस्त को ज्यादा एहेमित देने लगा।लड़के ने उस लड़की को भी ये नही बताया की वो सादी सुधा है ।लड़का जब भी कम्पनी से छुटियों में घर जाता तो अपनी पत्नी से ठीक से बात भी नही करता ऐसा कुछ समय चलता रहा परन्तु जब उसकी पत्नी ,अपने पति में आये इस तरह के बदलाव से परेसान थी वो अपने पति को कुछ नही बोलती पर वो मन ही मन बहुत दुखी रहती थी इस वजह से उसकी पत्नी की तबियत ख़राब रहने लगि ।फिर भी लड़के के अन्दर अपनी पत्नी के लिए कोई हमदर्दी नही दिखी ये देख उसकी पत्नी को बहुत दुःख होता था लड़का अपनी उस दोस्त में इतना खो गया की अपनी पत्नी से बात भी बहुत कम करता उस से ही बात करता।अपनी हर बात अपनी पत्नी की बजाए अपनी उस दोस्त से शेयर करता उसकी पत्नी हर रोज अपने पति के बारे में ये सोच कर बहुत परेसान होती उसकी पत्नी बीमार रहने लगी और बीमारी दिन प्रति दिन बढ़ती जा रही थी उसे यही दुःख था की जिस पति को अपनी पूरी जिन्दिगी सौप दी आज वही कुछ ही टाइम में बदल गया ।। लड़के की दोस्ती उस लड़की से इतनी ज्यादा पक्की हो गई की लड़की भी उस लड़के के लिए कुछ भी करने को तैयार थी।उधर वो लड़की उस लड़के से अपनी हर बात शेयर करती थी,लड़का भी अब अपनी पत्नी से परेसान था छोटी छोटी बातो पर ही झगड़ा हो जाता । उसकी पत्नी अपने पति से फिर भी बहुत प्यार करती थी उसे उम्मीद थी की कभी तो मेरा पति मेरी भावनाओ को समझेगा। अपनी इसी उम्मीद को लेकर वो अपनी जिन्दगी के दिन काट रही थी।किसी से कुछ नही बोलती जबकिें वो मरने की कगार पर थी हर पल घुट घुट कर जी रही थी, इक बार जब लड़का अपने घर गया हुआ था लड़का अपना फोन घर ही भूल गया और बाजार में किसी कम से चला गया सौभाग्य वंस उस दिन मोबाइल में लोक नही लगा हुआ था ,उसकी पत्नी ने अपने फोन से फोन कर अपने पति को कुछ दवाईया लेने को फोन किया तो फोन घर पर ही बज रहा था तभी उसने फोन देखा की फोन तो घर पर ही भूल गए जब उसने अपने पति का फोन चेक किया तो किसी लड़की से हुई बातो की रिकर्डिग सुनी और चैट पढ़ कर उसके पेरो तले की जमींन खिसक गई की इतना बडा विश्वासघात तब उसे सब माजरा समझ आया की उसके पति में अचानक आये बदलाव का कारण वो लड़की ही है और वो ये सब जान कर टूट सी गई मानो शरीर में जान ही नही रही हो और उस लड़की का नंबर नोट कर लिया।जब उसका पति घर आया तब उसने उनको वो फोन रिकॉर्डिंग और चैट दिखा कर पूछा की ये लड़की कोन है वो कुछ नही बोल पाया,उस टाइम लड़के के चहरे पर इक मायूसी थी तब उसकी पत्नी ने कहा की यदि आप ने मेरे साथ ऐसा ही करना था तो शादी ही क्यों की,क्यों मेरे जीवन को नरक बना दिया क्यों मुझ से इतना बढ़ा धोखा किया कभी सोचा नही था इक की आप इतना घिर जाओगे कभी सपने में भी नही सोच पाई की जिस इंसान से बेहद प्यार किया विस्वास किया आज वही कुछ टाइम में इतना बदल जायेगा जो इक दिन भी हमसे दूर होकर परेसान होता था आख़िर क्या कमी रह गई मेरे विस्वास में मेरे प्यार में जो ऐसा किया।। अब रह लेना उसी के साथ और इक चाकू उठने लगी खुद् को मारने के लिए तभी लड़के ने चाकू छीन लिया और अपनी पत्नी गले से लगा लिया और कहा की मुझे माफ़ कर दो मुझ से गलती हो गई जो तुम्हे समझ नही पाया।अब कभी ऐसा नही होगा लड़के को अपनी गलती का ऐहसास हो चूका था अब उसकी जिंदगी में इक मोड़ आया अब सब कुछ पहले की तरहे होता जा रहा था लड़के ने अपनी पत्नी से अपने व्यवहार को पहले की तरह अच्छा कर लिया और उनकी जिंदगी अच्छे से चल रही थी लेकिन उसकी पत्नी के दिल में अब भी ये सवाल बार बार आ रहा था की क्या अब मेरे पति उस लड़की को ये भूल जाऐगे या नहीे अब इक को चुनना होगा मुझे या उस लड़की को अब दोबारा ऐसा हुआ तो कभी माफ़ नहीं कर सकती।इक दिन उस लड़के की उस दोस्त लड़की ने लड़के को श्ादी के लिए बोला तब लड़के ने कहा की वो शादीसुधा है। तब लड़की ने कहा आप ने पहले कभी क्यों नही बताया।लड़के ने कहा की हम तुम्हें खोना नही चाहते थे ।
तब लड़की ने कहा की आप तकदीर में न हो पर पर प्यार आप से ही करते है ।लड़का बहुत खुश् था ,और वो अपनी पत्नी से भी कोई प्रॉब्लम नही है।
उधर उसकी पत्नी ने इक दिन उस लड़की को फोन किया और उसके बारे में पूछा और अपने बारे में बताया और कहा की जो इंसान अपनी पत्नी को दोखा दे सकता है वो तुम्हारा कैसे हो सकता है।यदि मेरी जगह तुम होती तो क्या करती ये सब सच जानकर तब पता चलता की दर्द क्या होता है ।लड़की ने कोई जवाब नही दिया।

अब हमारी जिंदगी से दूर चली जाओ और कभी मेरे पति से बात भी करने की कोसिस मत करना ।हमेशा के लिए उन्हें भूल जाओ तब लड़की ने मना कर दिया की ये नही हो सकता ।तक उसने कहा तो ठीक है मै ही तुम्हारे रास्ते से हट जाती हु हमेशा हमेशा के लिए ।
फिर अपने पति को फोन किया की आप से कुछ पूछना है सच बताना उसने कहा ठीक है क्या आप अब भी उस लड़की से बात करते हो उसने कहा हां तब उसकी पत्नी ने कहा उसे भूल जाओ या मुझे तुम्हे इक को चुनना होगा ,उसके पति ने कहा मुश्किल है ,उसने फिर से कहा इक बार फिर सोच लो।उसने कहा ये नही कर सकता तब उसकी पत्नी ने दुखी होकर कहा मै कर सकती हूँ ,मै जा रही हूँ हमेसा के लिये।
उसकी पत्नी ने अपने हाथ की नस काट ली और तड़फ -2 कर मर गई। जब लड़के को घर से कंपनी में फोन आया की आप की पत्नी की मौत हो गई है ,मानो पैरो तले की जमींन ही खिसक गई हो ओर इस सदमे में बेहोश हो गया ।
इस अचानक हुई मौत पर जब पुलिस ने उसकी पत्नी के घर वालो की शिकायत पर जाँच सुरु की तब फोन डिटेल के आधार पर पता सारा राज सामने आ गया उसके पति और उधर उस लड़की को भी अरेस्ट कर लिया गया ,लड़की की फेमली को जब सब सच पता चला तो उस लड़की की माँ ने आत्महत्या कर ली सायद बेटी के ऐसा कदम उठाने के कारण इस सदमे को सहन न कर पाई हो।उसके पिता भी बहुत ज्यादा परेसान रहने लगे और बहुत शराब पिने लगे और इक दिन सड़क हादसे का शिकार होकर दुनिया से अलविदा कह गऐ।
परिवार से दूर होकर ,आजादी तो मिल जायेगी परन्तु संस्कार चले जायेगे ।
दोस्तों अपनो को समझो ,सायद इस कहानी से यदि इक इंसान भी अपने रिस्तो के प्रति वफादार होता है हम अपना प्रयास सफल समझेगे।

जो अपनो का ना हो सका ,
भला वो किसी गैर का क्या खाक होगा।।

Jitu Dassजीतू दास
हिसार (हरियाणा)

0

Leave a Reply

Create Account



Log In Your Account



×
नमस्कार जी!
बताइए हम आपकी क्या मदद कर सकते हैं...